माँ मैं तो तेरे जैसी हूँ।

Every girl wants to be like her mother. Her mom is her best friend. She teaches her everything since birth. Boys can be close to either of the parents. But girls are close to her mom. Here is my poem for a girl who is dedicating some lines to her mom.

Maa Beti

 

कोई कुछ भी कहे मैं कैसी हूँ।
माँ मैं तो तेरे जैसी हूँ।

तेरा रंग मिला तेरा रूप बनी।
तेरा साया मिला, हुई जब धूप घनी।

मेरे दुःखों को तुमने मिटाया है।
जब उदास हुई तो हँसाया है।

मेरे अंदर तुम बसती हो माँ।
मुझे खुश देख हँसती हो माँ।

इक रूप के हम साथी दो।
मैं दिया, तुम बाती हो।

तुम बिन मेरा मोल नहीं।
क्या लिखूँ अब बोल नहीं।

मेरे जीवन का आधार हो तुम।
इस निराकार का आकार हो तुम।

कोई कुछ भी कहे मैं कैसी हूँ।
माँ मैं तो तेरे जैसी हूँ।

Sign

2 comments

Leave a Reply